माँ

वो इतनी खूबसूरत है ,

जैसे खुदा की मूरत है .

 

वो प्यार इतना बरसाती है ,

पूरी ज़िन्दगी भीग जाती है ,

 

वो खुशियों के सागर से ,

मोती चुन कर लाती है ,

 

जब दुआ का सावन आया ,

हर बूँद में उसी को पाया ,

 

जब पार करना था दुखों का सागर ,

हर पत्थर पर माँ लिखवाया .

माँ